देशभर में पुजारियों की बेरहमी से हत्या की कई वारदातें सामने आ रही हैं। अब तमिलनाडु के प्रसिद्ध पंडित मुसनीश्वर मंदिर के एक पुजारी की अज्ञात हमलवारों ने मंदिर परिसर में घुसकर डंडों और अन्य हथियारों से पीट पीटकर बेहद क्रूरता से हत्या कर दी। आपको बता दें कि इससे पहले राजस्थान में जमीन विवाद में पुजारी को जिंदा जला दिया गया था और यूपी में भी जमीन के विवाद को लेकर पुजारी को गोली मारी गई थी। यूपी मामले में पुजारी को लखनऊ के अस्पताल में भर्ती कराया गया है, जहां उनका इलाज चल रहा है।

पुलिस ने बताया कि मृतक पुजारी की पहचान जी.मुथुराजा के रूप में हुई है जो अंधराकोट्टम हैमलेट के निवासी थे। उन्होंने बताया कि अज्ञात हमलावरों का एक समूह मंदिर परिसर में घुस गया और उन्होंने पुजारी को डंडों और अन्य हथियारों से लगातार मारना शुरू कर दिया जिससे पुजारी की वही पर मौत हो गई।

तमिल के पुरातसी महीने के चौथे शनिवार के मौके पर मंदिर में बड़ी संख्या में भगवान के दर्शन करने पहुंचे श्रद्धालु इस निर्मम हत्या को देख घबरा गए और सुरक्षित स्थानों की तरफ भागने लगे। हमलावर पुजारी की बेहरमी से हत्या करने के बाद आसानी से फरार हो गए। इस घटना की जानकारी मिलते ही मदुरै शहर के पुलिस उपायुक्त आर.शिव प्रसाद मंदिर पहुंचे और उन्होंने मामले की पूछताछ की। बाद में पुजारी के शव को पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट के लिए राजाजी अस्पताल भेज दिया गया।

शुरुआती जांच के अनुसार कुछ महीने पहले मंदिर परिसर में आयोजित एक कान छिदवाने की रस्म के दौरान पुजारी मुथुराजा और एक समूह के बीच झगड़ा हो गया था जिसके बदला लेने के लिए शायद उन्होंने पुजारी की हत्या कर दी। अन्ना नगर पुलिस ने इस संबंध में मामला दर्ज कर हमलकतार्ओं की तलाश शुरू कर दी हैं।

यूपी में पुजारी को गोली मारी

यूपी के गोंडा में श्री राम जानकी मंदिर के पुजारी को शनिवार की रात लगभग दो बजे गोली मार दी गई। गोली लगने से पुजारी अतुल बाबा उर्फ सम्राट दास गंभीर रूप से घायल हो गए। उनको इलाज के लिए जिला अस्पताल लाया गया। गंभीर होने के कारण डॉक्टरों ने लखनऊ रेफर कर दिया है। यह मामला भी जमीन विवाद का बताया जा रहा है। कोतवाल संदीप कुमार सिंह ने बताया कि अतुल बाबा उर्फ सम्राट दास राम जानकी मंदिर तिर्रे मनोरमा में पूजा पाठ करते हैं और विगत दो साल से मंदिर पर रहते हैं। शनिवार को रात को लगभग दो बजे कुछ लोगों ने मंदिर परिसर में आकर गोली मार दी। मंदिर के पुजारी सीताराम दास ने चार लोगों के विरुद्ध तहरीर दी है।

कोतवाल संदीप कुमार सिंह ने बताया कि चारों आरोपियों के खिलाफ धारा हत्या के प्रयास में मुकदमा पंजीकृत कर लिया गया है। और तलाश की जा रही है। उन्होंने बताया मंदिर से संबंधित भूमि का विवाद भी चल रहा है। घटना के पीछे भू-माफियाओं का हाथ बताया जा रहा है। पुलिस ने घटना के मामलें में फिलहाल दो लोगों को हिरासत में ले लिया है। हालांकि अभी इसकी पुष्टि वह नहीं कर रही है।

राजस्थान में क्यों हुई थी पुजारी की हत्या
राजस्थान पुलिस के अनुसार घटना सापोटरा के बूकना गांव की थी। वहां बुधवार को एक मंदिर के पुजारी बाबू लाल वैष्णव पर पांच लोगों ने हमला किया। आरोप है कि मंदिर के पास की खेती की जमीन पर कब्जा करने की कोशिश कर रहे इन लोगों ने पुजारी पर पेट्रोल छिड़क कर आग लगा दी। पुलिस के मुताबिक, मरने से पहले पुजारी ने पुलिस को बताया था कि कैलाश मीणा अपने साथियों शंकर, नमो, किशन और रामलखन के साथ मंदिर के बाड़े पर कब्जा कर छप्पर लगा रहा था। मैंने विरोध किया तो पेट्रोल डालकर आग लगा दी। मेरा परिवार मंदिर की 15 बीघा जमीन पर खेती कर अपना गुजारा करता है।

बाबूलाल वैष्णव सपोटरा तहसील के बूकना गांव के पुराने राधाकृष्ण मंदिर में पूजा करते थे। ग्रामीणों ने मंदिर के लिए खेती की जमीन दान दी थी, जो राजस्व रिकॉर्ड में मंदिर माफी में दर्ज है। करीब एक महीने पहले कुछ लोग जमीन पर कब्जा करने की कोशिश करने लगे। पुजारी ने इसकी शिकायत की थी। 4-5 दिन पहले भी गांव के 100 घरों की बैठक हुई थी, जिसमे पंचों ने पुजारी का समर्थन किया था।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *