नई दिल्ली. गोरखा जनमुक्ति मोर्चा (Gorkha Janmukti Morcha-GJM) के एक प्रतिनिधिमंडल ने बुधवार को गृह राज्य मंत्री जी किशन रेड्डी (G. Kishan Reddy) से मुलाकात की और पश्चिम बंगाल में दार्जीलिंग तथा इसके आसपास के इलाकों को मिला कर अलग गोरखा लैंड राज्य बनाने की मांग की. अधिकारियों ने बताया कि जीजेएम का दल गोरखालैंड क्षेत्रीय प्रशासन (जीटीए) से जुड़े मुद्दों पर केंद्रीय गृह मंत्रालय के साथ एक त्रिपक्षीय बैठक में भाग लेने के लिये नई दिल्ली आया था. उन्होंने बताया कि हालांकि, पश्चिम बंगाल सरकार का कोई प्रतिनिधि बैठक में शामिल नहीं हुआ.

क्या बोले लोपसांग लामा

जीजेएम के कार्यकारी प्रमुख लोपसांग लामा ने कहा कि उन्होंने जीटीए पर चर्चा नहीं की, लेकिन अलग गोरखालैंड राज्य की मांग करते हुए एक ज्ञापन सौंपा. उन्होंने कहा, ‘जीटीए काम नहीं कर रहा है. हमारी मांग सिर्फ गोरखालैंड राज्य के लिये है और हमने यह मुद्दा उठाया.’

बीजेपी को घोषणापत्र में किए वादे की दिलाई याद
उन्होंने कहा कि केंद्र में सत्तारूढ़ भाजपा ने अपने चुनाव घोषणापत्र में वादा किया था कि यह गोरखालैंड मुद्दे का एक राजनीतिक समाधान निकालेगी. जीजेएम नेता कल्याण दीवान ने कहा कि केंद्रीय मंत्री ने उन्हें धैर्य से सुना और भरोसा दिलाया कि उनकी मांगों पर वार्ता जारी रहेगी.

एक अन्य मांग
बाद में एक बयान में लामा ने कहा कि सात सदस्यीय प्रतिनिधिमंडल ने अलग गोरखालैंड राज्य और 11 गोरखा उप समुदायों को अनुसूचित जनजाति का दर्जा देने की मांग की. बयान में कहा गया, ‘कारण कि भारत सरकार, पश्चिम बंगाल सरकार और जीजेएम के बीच 2011 में हस्ताक्षरित समझौते का राज्य सरकार ने सम्मान नहीं किया है.’

राज्य सरकार द्वारा अड़चनों का जिक्र

प्रतिनिधिमंडल द्वारा सौंपे गये ज्ञापन में राज्य सरकार द्वारा कथित तौर पर अड़चनें डाले जाने का जिक्र किया गया है जिस वजह से जीटीए निष्क्रिय हो गया. जीजेएम ने कहा कि जीटीए के सभी निर्वाचित सदस्यों ने 2017 में एक साथ इस्तीफा दे दिया था. जीजेएम ने कहा कि मंत्री ने भरोसा दिलाया कि सरकार अपने समक्ष रखे गये सभी विषयों पर विचार करेगी और केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह से बात करने के बाद अगली बैठक की घोषणा की जाएगी. बैठक में केंद्रीय गृह सचिव अजय कुमार भल्ला और अन्य वरिष्ठ अधिकारी भी शरीक हुए.

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *