मध्य प्रदेश के ग्वालियर के कंपू थाना प्रभारी को एक महिला से छेड़छाड़ करने के आरोप में एसपी ने सस्पेंड कर दिया है। थाना प्रभारी केएन त्रिपाठी पर महिला थाना में छेड़छाड़ का मामला भी दर्ज किया गया है। थाना प्रभारी ने महिला को अपने केबिन में बुलाकर उसे पकड़ लिया और कहने लगा कि शाम को कैंसर पहाड़ी चलेंगे। चार दिन से वह लगातार महिला को वॉट्सऐप कॉल व चैट कर मिलने के लिए बुला रहा था। घबराई पीड़िता ने महिला परामर्शदात्री को अपनी पीड़ा बताई।

जब महिला पुलिस अफसरों के पास बैठकर अपनी परेशानी बता रही थी, उस समय भी थाना प्रभारी का कॉल आया, जिसे सबके सामने महिला ने सुनाया। एसपी ने तत्काल थाना प्रभारी को सस्पेंड कर दिया है। दरअसल, 18 अक्टूबर रविवार को कंपू पुलिस ने एक युवक को स्कूटर पर खड़े होकर शराब पीते पकड़ा था। पुलिस उसे लेकर थाना पहुंच गई।

युवक की पत्नी थाना पहुंची तो पुलिस ने युवक को छोड़ दिया, लेकिन स्कूटर रख लिया। युवक की पत्नी, पीड़िता की परिचित थी। इस पर वह थाना में बात करने उसे ले गई। जब पीड़िता थाना में पहुंची तो थाना प्रभारी उस पर लट्टू हो गए। उन्होंने स्कूटर छोड़ दिया पर महिला का नंबर ले लिया। इसके बाद उसी दिन उसे कॉल किया और बोले कभी भी कोई काम हो तो आ जाना। इसके बाद वॉट्सएप पर चैट शुरू कर दी। थाना प्रभारी लगातार चार दिन से महिला को अपने पास बुला रहे थे।

बुधवार को महिला ने महिला काउंसलर सबा रहमान से संपर्क किया। उन्होंने पूरे मामले की गंभीरता को समझते हुए महिला को पूरा प्लान समझाया। उसे मोबाइल की रिकॉर्डिंग ऑन कर थाना प्रभारी के केबिन में भेजा गया। महिला काउंसलर और उनकी टीम बाहर कुछ दूरी पर खड़ी रही। जैसे ही महिला केबिन में पहुंची थाना प्रभारी ने उसे पकड़ लिया। उसने महिला से छेड़छाड़ की।

महिला ने यह भी कहा कि केबिन में कोई आ सकता है तो थाना प्रभारी बोला कि ठीक है शाम को कैंसर पहाड़ी घूमने चलेंगे। इस थाना प्रभारी ने पहले भी कई बार खाकी को बदनाम किया है। वह पिछोर थाना में एक महिला के साथ वीडियो बनाने पर चर्चा में आया था। कोरोना से पति की मौत के बाद थाना पहुंची महिला से अभद्रता कर केबिन से भगाने का वीडियो वायरल होने पर भी चर्चा में आया था। एक महीने तक दुष्कर्म पीड़िता को थाना के चक्कर लगवाने और राजीनामा करने दबाव डालने का आरोप भी लगा है।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *