नई दिल्‍ली: चीन से लद्दाख में तनाव को लेकर 8वें दौर की वार्ता चल रही है। चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ जनरल बिपिन रावत ने आज कहा कि लद्दाख में चीनी आक्रामकता के बीच सीमा टकराव और अकारण सैन्य कार्रवाई किसी बड़े संघर्ष को अंजाम दे सकती है और इस सच्‍चाई को हम नकार नहीं सकते।

जनरल रावत ने यह भी कहा कि पूर्वी लद्दाख में भारत और चीन के बीच वास्तविक सीमा रेखा (वास्तविक नियंत्रण रेखा) पर स्थिति तनावपूर्ण बनी हुई है। उन्होंने कहा कि चीन की पीपुल्स लिबरेशन आर्मी को लद्दाख में अपने दुस्साहस के लिए “अप्रत्याशित परिणामों” का सामना करना पड़ रहा है, क्योंकि भारतीय सेनाओं की दृढ़ प्रतिक्रिया के कारण उसे कड़ा संदेश मिला है।

समाचार एजेंसी पीटीआई ने नेशनल डिफेंस कॉलेज द्वारा आयोजित एक वेबिनार के माध्‍यम से कहा, “हमारा तरीका एकदम साफ है, हम वास्तविक नियंत्रण रेखा में किसी भी बदलाव को स्वीकार नहीं करेंगे।”

भारत और चीन ने लद्दाख में गतिरोध को हल करने के लिए सात दौर की सैन्य वार्ता की है, जो मई में शुरू हुई थी। हालां‍कि जून में गलवान घाटी में चीनी सैनिकों के साथ संघर्ष में देश के 20 भारतीय जवान शहीद हो गए थे। अगस्त में, चीनी सैनिकों ने उन भारतीय सैनिकों पर बढ़त बनाने की कोशिश की, जिन्होंने पैंगोंग त्सो में ऊंचाइयों पर कब्‍ता किया था और दशकों में पहली बार हवा में गोलीबारी हुई थी।

जनरल रावत ने कहा, “जैसा कि भारत को बढ़त हासिल है। सुरक्षा चुनौतियां आनुपातिक रूप से बढ़ेंगी। हमें अपनी सैन्य आवश्यकताओं के लिए प्रतिबंधों या व्यक्तिगत राष्ट्रों पर निर्भरता के निरंतर खतरे से बाहर निकलना होगा और वर्तमान और उभरती चुनौतियों का सामना करने के लिए रणनीतिक स्वतंत्रता व निर्णायक सैन्य शक्ति के आवेदन के लिए दीर्घकालिक स्वदेशी क्षमता के निर्माण में निवेश करना होगा।”

पाकिस्तान का उल्लेख करते हुए जनरल रावत ने कहा कि नया भारत अपने तरीके से आतंक से निपट रहा है और इसके लिए एक नई योजना बनाई गई है। पाकिस्‍तान सीमा पार से आतंक के माध्यम से अपने छद्म युद्ध को जारी रखे हुए है। उन्होंने कहा, “जम्मू-कश्मीर में छद्म युद्ध के साथ पाकिस्तानी बयानबाजी ने भारत-पाकिस्तान संबंधों को एक नए मुकाम पर पहुंचा दिया है।”

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *