कुआलालंपुर: फ्रांस इन दिनों पैगंबर मोहम्मद के कार्टून पर विवाद और अभिव्यक्ति की आजादी को लेकर कहीं चर्चा, तो कहीं आलोचना के घेरे में है। फ्रांस के राष्ट्रपति इम्मैन्युअल मैक्रों पर ताजा हमला मलेशिया के पूर्व प्रधानमंत्री महातिर मोहम्मद ने बोला है। मोहम्मद ने न सिर्फ फ्रांस में की गईं हत्याओं को सही ठहराया है बल्कि यह तक कह डाला है कि गुस्साए मुस्लिमों को फ्रांस के लाखों लोगों को मारने का अधिकार है। इस बीच उन्होंने महिलाओं की आजादी पर भी बयानबाजी की है। हालांकि, ट्विटर ने उनका ट्वीट डिलीट कर दिया। बता दें कि महातिर ने कश्मीर के मुद्दे पर पाकिस्तान का साथ दिया था।

‘हत्या का समर्थन नहीं लेकिन…’
कई सारे ट्वीट कर महातिर ने लिखा है कि फ्रांस में 18 साल के चेचन्याई मूल के लड़के ने एक टीचर का गला काट गिया। हमलावर इस बात से गुस्सा था कि टीचर ने पैगंबर मोहम्मद का कार्टून दिखाया था। टीचर अभिव्यक्ति की आजादी दिखाना चाहता था। उन्होंने लिखा है- ‘एक मुस्लिम के तौर पर मैं हत्या का समर्थन नहीं करूंगा लेकिन जहां मैं अभिव्यक्ति की आजादी में विश्वास करता हूं, मुझे नहीं लगता कि उसमें लोगों का अपमान करना शामिल होता है।

ट्विटर ने डिलीट किया ट्वीट
इसके बाद ट्विटर ने उनके ट्वीट को नियमों का उल्लंघन बताते हुए डिलीट कर दिया। इस पर महातिर ने फिर बदला हुआ ट्वीट किया- ‘अभी तक मुस्लिमों ने आंख के बदले आंख करना शुरू नहीं किया है। मुस्लिम ऐसा नहीं करते हैं और फ्रांसीसियों को नहीं करना चाहिए। फ्रांसीसियों को अपने लोगों को दूसरे लोगों की भावनाओं का सम्मान करना सिखाना चाहिए।’ उन्होंने आगे लिखा, ‘आपने सभी मुस्लिमों और उनके धरम को एक गुस्साए शख्स के काम के लिए जिम्मेदार ठहराया है, इसलिए मुस्लिमों को फ्रांस को सजा देने का अधिकार है। बहिष्कार से उन सभी अपराधों का मुआवजा नहीं हो सकता है जो फ्रांस ने इतने साल में किए हैं।’

पश्चिम के असर की आलोचना
महातिर ने पश्चिमी मूल्यों और उनके असर की भी आलोचना की है। उन्होंने लिखा है कि हम अक्सर पश्चिम के तरीकों को कॉपी करते हैं। उनकी तरह कपड़े पहनते हैं, उनकी राजनीतिक व्यवस्था और अजीब प्रथाओं को भी अपना लेते हैं लेकिन हमारे अपने मूल्य हैं, जो नस्लों और धर्मों के बीच अलग-अलग हैं, इन्हें हमें बरकरार रखना है।

महिलाओं की आजादी मतलब वोटिंग का अधिकार’
यही नहीं, उन्होंने यह भी कहा है कि नए विचारों के साथ समस्या यह है कि बाद में आने वाले लग इसमें नए नजरिए जोड़ देते हैं। इन्हें शुरू करने वालों का यह मकसद नहीं होता। उन्होंने ट्वीट किया- ‘इसलिए महिलाओं की आजादी का मतलब चुनाव में वोट करने का अधिकार था। आज हम महिला और पुरुष के बीच हर अंतर मिटा देना चाहते हैं। शारीरिक रूप से हम अलग हैं। हमारी समान होने की क्षमता इससे सीमित हो जाती है। हमें इन अंतरों और सीमाओं को स्वीकार करना होगा।’

महिलाओं के पहनावे पर भी बोले
महातिर ने महिलाओं के पहनावे पर लिखा है, ‘पश्चिम में महिलाओं के कपड़ों पर एक वक्त में बहुत प्रतिबंध थे। चेहरे को छोड़कर शरीर का कोई हिस्सा खुला नहीं रहता है लेकिन धीरे-धीरे शरीर के कई एक्सपोज किए जाने लगे। कई तटों पर बिलकुल कपड़े नहीं पहने जाते। पश्चिम में लोग इसे सामान्य मानते हैं लेकिन पश्चिम को दूसरों पर इसे बलपूर्वक नहीं थोपना चाहिए। ऐसा करने से इन लोगों की आजादी छीनी जाती है।’

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *