पाकिस्तान (Pakistan) के प्रधानमंत्री इमरान खान ने गिलगित-बाल्टिस्तान (Gilgit Baltistan) को अंतरिम प्रांत का दर्जा देने का ऐलान कर दिया है. रविवार को वह 73वें स्वतंत्रता दिवस के समारोह में पहुंचे थे जहां उन्होंने यह ऐलान किया है. इससे पहले इमरान ऐलान कर चुके हैं कि गिलगित-बाल्टिस्तान को संवैधानिक अधिकार दिए जाएंगे और नवंबर में चुनाव भी कराए जाएंगे. गौरतलब है कि भारत इस कदम का विरोध करता आया है

पाकिस्तान के जियो न्यूज की रिपोर्ट के मुताबिक खान ने यहां कहा, मेरे गिलगित-बाल्टिस्तान आने का एक कारण यह ऐलान करना है कि हमने इसे प्रविजनल प्रांत का दर्जा देने का फैसला किया है. हमने यह फैसला संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के रेजॉलूशन को ध्यान में रखते हुए किया है. इमरान खान ने कहा कि वह गिलगित-बाल्टिस्तान को दिए जाने वाले पैकेज के बारे में चर्चा या ऐलान नहीं कर सकते हैं, क्योंकि चुनाव के चलते लागू हुए नियमों का उल्लंघन होगा

इमरान सरकार ने जब इस बारे में ऐलान किया था, तभी से विपक्षी पार्टियां नाराज हो गई थीं. जमीयत-ए-उलेमा इस्लाम-F चीफ मौलाना फजलुर रहमान ने तो GB को प्रांत बनाने के खिलाफ ही रुख अपनाया हुआ है. रहमान के मुताबिक ऐसा करने से भारत का जम्मू-कश्मीर और लद्दाख को केंद्र शासित प्रदेश बनाने का फैसला भी वैध साबित हो जाएगा

विपक्ष ने सेना अध्यक्ष कमर जावेद बाजवा को एक बैठक में चुनाव के बाद इस मुद्दे पर चर्चा का आश्वासन दिया था लेकिन इमरान ने पहले ही ऐलान कर दिया है.

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *