नयी दिल्लीः नागरिकता संशोधन कानून (CAA) के विरोध और समर्थन में देश की राजधानी सुलग उठी है. उत्तर पूर्वी दिल्ली में सोमवार सुबह से शुरू बवाल अभी तक जारी है. बीते 24 घंटे में हेड कॉस्टेबल सहित 7 लोगों की मौत हो चुकी है. वहीं 50 से ज्यादा घायल हैं जिनमें से कुछ की हालत गंभीर है.

उत्तर पूर्वी दिल्ली के अधिकतर इलाकों में धारा 144 लागू है. हर तरह के स्कूल आज बंद है. पूरे इलाके में जबरदस्त तनाव है. भारी पुलिस बल तैनात है.

सुरक्षाबल प्रभावित इलाकों में फ्लैग मार्च कर रहे हैं.

इस बीच सीएम केजरीवाल ने प्रभावित इलाकों के विधायकों और अधिकारियों के साथ बैठक के बाद बयान जारी करके कहा कि प्रभावित इलाकों में सभी जरूरी सुरक्षा और मेडिकल सुविधाएं मुहैया करवाई जाएं.

साथ ही उन्होंने जिला मजिस्ट्रेट को निर्देश दिया कि वो पुलिस बल के साथ प्रभावित इलाकों का दौरा करें. सीएम केजरीवाल ने ये भी कहा कि वो आज 12 बजे केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह से मुलाकात करेंगे.

दिल्ली में सीएए समर्थकों और विरोधियों की बीच हुई झड़प के बाद फैली हिंसा मामले में दिल्ली हाईकोर्ट में याचिका दायर करने वाली संस्था ह्यूमन राइट लॉ नेटवर्क ने न्यायालय से मांग की है कि हिंसा में हुई मौतों की स्वतंत्र न्यायिक जांच हो. संस्था ने कुछ प्रमुख राजनीतिक हस्तियों की गिरफ्तारी की मांग भी की है. दलील दी गयी है कि इन राजनीतिक हस्तियों के नफरत भरे भाषणों की वजह से भी हिंसा भड़की.

सीएए को लेकर फैली हिंसा के बाद प्रभावित इलाकों में अर्धसैनिक बलों की 35 टुकड़ियां तैनात की गयी हैं. इसके साथ ही दिल्ली पुलिस के स्पेशल सेल, क्राइम ब्रांच और आर्थिक अपराध शाखा के अधिकारियों को भी हिंसा प्रभावित इलाकों में तैनात किया गया है. दिल्ली पुलिस के जवान भी मौके पर मौजूद हैं.

ज्वॉइंट कमिश्नर ऑफ पुलिस आलोक कुमार ने कहा कि उत्तरी-पूर्वी दिल्ली में फैली हिंसा को लेकर हम लगातार काम कर रहे हैं. ब्रह्मपुरी, मौजपुर, चांदबाग और अन्य हिंसा प्रभावित इलाकों में बलों को तैनात किया गया है. हम किसी भी सभा को तितर-बितर करने की कोशिश कर रहे हैं. शांति समितियां लोगों से शांति बनाए रखने के लिए लगातार बातचीत कर रही हैं.

इस बीच नागरिकता संसोधन कानून को लेकर मौजपुर, जाफराबाद सहित आसपास के इलाकों में हुई हिंसा को लेकर दिल्ली उच्च न्याोालय में याचिका दायर की गयी है.

उत्तर पूर्वी दिल्ली में हिंसक घटनाओं में मरने वालों की संख्या बढ़ कर सात हो गई है. पुलिस के एक अधिकारी ने मंगलवार को यह जानकारी दी. संशोधित नागरिकता कानून को लेकर सोमवार को हुई हिंसा में जान गंवाने वाले सात लोगों में दिल्ली पुलिस के हेड कांस्टेबल रतनलाल शामिल हैं. अधिकारियों ने बताया कि सोमवार तक हिंसा में जान गंवाने वालों की संख्या चार थी. मंगलवार को यह संख्या बढ़ कर सात हो गई है.

दिल्ली के गोकुलपुरी इलाके में सुरक्षाकर्मी तैनात कर दिए गए हैं. कल यानी सोमवार को इस इलाके में दो समूहों के बीच झड़प हुई ती. इसमें दिल्ली पुलिस के एक हेड कांस्टेबल की जान चली गयी थी. घटना में शाहदरा डीसीपी अमित शर्मा भी घायल हो गए थे.

राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के नेता नवाब मलिक ने दिल्ली में सीएए के खिलाफ प्रदर्शन के दौरान फैली हिंसा को लेकर केंद्र सरकार पर निशाना साधा है. उन्होंने कहा कि बीते तीन महीने से सीएए और एनआरसी को लेकर हिंसा और प्रदर्शन हो रहा है. इसकी पूरी जिम्मेदारी केंद्र सरकार की है. सरकारी पक्ष के लोग भड़काउ बयान देते हैं. गोली मारने की भाषा बोलते हैं. बीजेपी नेता कपिल मिश्रा कहते हैं कि ट्रंप के जाने के बाद निपट लेंगे. उन्होंने कहा कि इस तरीके से लोकतंत्र में सरकारें काम नहीं करतीं.

दिल्ली सरकार के मंत्री सीएम केजरीवाल के आवास पर पहुंचना शुरू कर चुके हैं. वरिष्ठ अधिकारी भी सीएम अरविंद केजरीवाल द्वारा अपने आवास पर बुलाई गयी बैठख में पहुंच रहे हैं. दरअसल, मुख्यमंत्री केजरीवाल ने दिल्ली के हिंसा प्रभावित इलाकों को लेकर संबंधित इलाके के विधायकों और अधिकारियों की आपात बैठक बुलाई है.

केंद्रीय गृह राज्यमंत्री जी किशन रेड्डी ने दिल्ली में फैली हिंसा को लेकर बड़ा बयान दिया है. उन्होंने कहा कि हम दिल्ली में हिंसा में शामिल लोगों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करेंगे. उन्होंने कहा कि सीएए के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे लोग लगातार 2 महीने से धरना दे रहे हैं. सरकार ने उन्हें शांतिपूर्ण तरीके से विरोध प्रदर्शन करने का मौका दिया. लेकिन कल जो हिंसा हुई, उसे बर्दाश्त नहीं किया जा सकता.  केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह आज दोपहर 12 बजे दिल्ली के उपराज्यपाल अनिल बैजल, दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल सहित विभिन्न राजनीतिक दलों के प्रतिनिधियों के साथ कल से राजधानी में जारी हिंसा को लेकर बैठक करेंगे. बैठक में हिंसा के ताजा हालात पर चर्चा होने की संभावना है.

आज सुबह-सुबह मौजपुर इलाके में पथराव हुआ. इतना ही नहीं प्रदर्शनकारियों ने पथराव के बाद आगजनी भी की. जाफराबाद मेट्रो के आस-पास कई सौ लोग अभी भी मौजूद हैं और महिलाएं भी कानून के विरोध में प्रदर्शन कर रही हैं.   मंगलवार सुबह भी हालात तनावपूर्ण है. सुबह-सुबह पांच मोटरसाइकिल को आग के हवाले कर दिया गया. मौके पर बड़ी तादाद में पुलिस बल तैनात है. देर रात से सुबह तक मौजपुर और उसके आस-पास इलाकों में आगजनी के 45 कॉल आए, जिसमें दमकल की एक गाड़ी पर पथराव किया गया, जबकि एक दमकल की गाड़ी को आग के हवाले कर दिया गया. तीन दमकलकर्मी घायल हुए है.

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने आपात बैठक बुलाई है. हिंसा प्रभावित इलाकों के सभी विधायक और अधिकारी शामिल होंगे. केजरीवाल ने ट्वीट किया- दिल्ली के कुछ हिस्सों में मौजूदा स्थिति के लिए मैं चिंतित हूं. हम सभी को मिलकर अपने शहर में शांति बहाल करने के लिए प्रयास करने चाहिए. मैं फिर से सभी को हिंसा से दूर करने का आग्रह करता हूं. कुछ ही समय में हिंसा से प्रभावति इलाकों के विधायकों और अधिकारियों से बैठक करूंगा.  इलाके में तनाव को देखते हुए  जाफराबाद, मौजपुर-बाबरपुर, गोकुलपुरी, जौहरी एन्क्लेव और शिव विहार मेट्रो स्टेशन को बंद कर दिया गया है.  पूरे इलाके में पुलिस फोर्स की भारी तैनाती की गई है. दिल्ली से सटे दूसरे राज्यों को हाई अलर्ट कर दिया गया है.

जाफराबाद में हिंसा के बाद तनाव को देखते हुए रैपिड एक्शन फोर्स की टुकड़ी तैनात की गई है. उत्तर पूर्वी दिल्ली के करावलनगर के शिव विहार में हुई पत्थरबाजी औऱ आगजनी की घटना की कवरेज कर रहे पत्रकारों के कैमरे भी बंद करवा दिए गए. हिंसा पर स्पेशल पुलिस कमिश्नर सतीष गोल्चा ने लोगों से शांति की अपील की. 

करावल नगर में मंगलवार सुबह भी पत्थरबाजी और आगजनी की खबरें हैं. ब्रह्मपुरा इलाके में दो गुटों में पथराव की घटना के बाद रैपिड ऐक्शन फोर्स ने फ्लैग मार्च किया है. दिल्ली पुलिस ने बताया कि आज सुबह मौजपुर और ब्रह्मपुरा इलाके में फिर से पथराव की घटना हुई है.  मौजपुर और जाफराबाद में सोमवार रात भड़की हिंसा के बाद इलाके में जबर्दस्त खौफ पसरा हुआ है.

मौजपुर की हिंदू बहुल कॉलोनिया में रात भर लोग जगे रहे. कुछ लोगों सड़कों पर कुर्सियां डाल कर चौकीदारी करते रहे.गृह मंत्रालय के सूत्रों के मुताबिक, कल रात में दिल्ली हिंसा मामले पर गृह मंत्री अमित शाह ने बड़ी बैठक की.

अहमदाबाद से लौटने के तुरंत बाद अमित शाह ने समीक्षा बैठक की. रात 11 बजे से डेढ़ बजे तक चली इस बैठक में गृह सचिव, इंटेलिजेंस ब्यूरो चीफ, दिल्ली पुलिस कमिश्नर और गृह मंत्रालय के दूसरे अधिकारी शामिल थे. हालात पर कड़ी नजर रखने का आदेश दिया गया है.

i'm an civil engineer, free lancer web developer and blogger. currently working as author and editor on reportlook.com and newsx24.in . always open eyes on indian politics

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *