अरब देशों समेत दुनिया भर के कई मुस्लिम मुल्कों में फ्रांस के खिलाफ गुस्सा देखने को मिल रहा है। खासतौर पर फ्रांस के बने उत्पादों का बायकॉट करने की मांग की जा रही है। बायकॉट फ्रेंच प्रोडक्ट्स के साथ हैशटैग चल रहे हैं। दरअसल फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रोन की ओर से पैगंबर मोहम्मद के कार्टून्स का बचाव किए जाने के बाद यह स्थिति देखने को मिल रही है। पैगंबर मोहम्मद के चित्र या फिर कार्टून बनाने को इस्लाम में ईशनिंदा के तौर पर देखा जाता है। दरअसल बीते सप्ताह हत्या का शिकार हुए सैमुएल पैटी को श्रद्धांजलि देने के लिए एक सभा का आयोजन किया गया था। इस दौरान मैक्रोन ने कार्टूनों का बचाव किया था। हाई स्कूल टीचर ने क्लास में पैगंबर मोहम्मद के कार्टून दिखाए थे, जिस पर उनकी गला रेतकर हत्या कर दी गई थी। पुलिस ने हमलवार को भी मुठभेड़ में मार गिराया था।

फ्रांस के राष्ट्रपति ने इस्लामिक अतिवाद से निपटने का भी आह्वान किया है। इसके बाद से ही मुस्लिम बहुल देशों में फ्रेंच प्रोडक्ट्स के बायकॉट की अपील की जा रही है। बायकॉट की अपीलों और मुस्लिम देशों की आलोचना के बीच मैक्रोन ने एक बार फिर ट्वीट किया है, ‘हम नहीं झुकेंगे। हम सभी अलग-अलग मतों का शांति की भावना के साथ सम्मान करते हैं। हम हेट स्पीच को स्वीकार नहीं करते और जरूरी डिबेट की रक्षा के लिए तत्पर हैं। हम हमेशा मानव के सम्मान और वैश्विक मूल्यों के साथ हैं।’ अभिव्यक्ति की आजादी को लेकर एक क्लास के दौरान सैमुअल पैटी ने पैगंबर मोहम्मद का कार्टून दिखाया था।

इमैनुअल मैक्रोन के बयान के बाद से मुस्लिम देशों में फ्रांसीसी उत्पादों के बायकॉट की अपीलें की जा रही हैं। मैक्रोन के बयान की मुस्लिम देशों के नेताओं के अलावा आम लोगों की ओर से भी निंदा की जा रही है। तुर्की के राष्ट्रपति तैय्पप अर्दोआन ने कहा अपने देश के लोगों से अपील करते हुए कहा है कि फ्रांसीसी उत्पादों को न खरीदें। उन्होंने कहा कि यूरोपीय नेताओं को मैक्रोन को नफरत फैलाने से रोकने की कोशिश करनी चाहिए। उन्होंने मैक्रोन अपना मानसिक संतुलन खो चुके हैं और उन्हें अपना इलाज कराने की जरूरत है।

तुर्की के राष्ट्रपति के बयान के बाद फ्रांस ने अपने राजदूत को वापस बुलाकर कड़ी प्रतिक्रिया दी है। पाकिस्तान के पीएम इमरान खान ने भी फ्रांसीसी नेता की निंदा करते हुए कहा है कि वह मुस्लिमों के खिलाफ भावनाओं को भड़ाकने की कोशिशों में जुटे हुए हैं। उन्होंने कहा कि वह इस्लाम को निशाना बनाने वाले कार्टून के प्रदर्शन का समर्थन कर मुस्लिमों को भड़ाने की कोशिश कर रहे हैं। इस बीच पाकिस्तान ने भी फ्रांस के राजदूत को तलब कर मैक्रोन के बयान पर कड़ा विरोध जताया है।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *