लखनऊ/बागपत. उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के बागपत (Baghpat) के रामाला थाने में तैनात सब इंस्पेक्टर इंतसार अली (SI Intsar Ali) बिना अनुमति लंबी दाढ़ी रखने के आरोप में पुलिस अधीक्षक द्वारा निलंबित कर दिए गए थे. बाद में दारोगा इंतसार अली द्वारा दाढ़ी कटवाने का प्रार्थना पत्र दिए जाने के बाद पुलिस अधीक्षक अभिषेक सिंह ने उन्हें बहाल कर दिया.

मामले में अब सीएम योगी आदित्यनाथ (CM Yogi Adityanath) के सूचना सलाहकार शलभ मणि त्रिपाठी ने ट्वीट किया है. शलभ मणि त्रिपाठी ने लिखा है, “इंतेसार अली दारोग़ा हैं, नियमविरुद्ध दाढ़ी रखते थे, सैल्यूट की जगह आदाब करते थे, सरकार बदलने का फर्क नहीं समझ पाए, याद न रहा कि UP में अब कानूनराज है, लिहाज़ा सस्पेंड हो गए. बहाली तब हुई जब वर्दी के सम्मान वाली वेशभूषा में लौटे, देश कठमुल्लों से नहीं बाबा साहब के संविधान से ही चलेगा.”

बता दें कि पुलिस अधीक्षक ने दारोगा इंतसार अली को तीन बार दाढ़ी कटवाने की चेतावनी दी थी. साथ ही उन्हें दाढ़ी रखने के लिए विभाग से अनुमति लेने को भी कहा था. लेकिन पिछले कई महीनों से दारोगा इंतसार अली आदेश की अनदेखी करते हुए दाढ़ी रख रहे थे. जिसके बाद उन्हें निलंबित कर दिया था.

पुलिस अधीक्षक ने बताया कि उप निरीक्षक इंतसार अली द्वारा एक प्रार्थना पत्र दिया गया, जिसमें उन्होंने बताया कि पुलिस मैनुअल के मुताबिक दाढ़ी कटवा ली है. जिसके बाद उन्हें बहाल करने का आदेश दिया गया. सहारनपुर निवासी इंतसार अली यूपी पुलिस में एसआई के पद पर भर्ती हुए थे और पिछले तीन साल से वह बागपत जिले में कार्यरत हैं. लॉकडाउन से पहले उन्हें रमाला थाने में तैनाती दी गई थी.

डीजीपी ने जारी किए निर्देश
उधर, इस मामले के बाद उत्तर प्रदेश पुलिस के मुखिया डीजीपी एचसी अवस्थी की ओर से पुलिसकर्मियों की वर्दी, जूते, बाल और दाढ़ी को लेकर निर्देश जारी हुए हैं. निर्देश के मुताबिक, सिख धर्म के पुलिसकर्मियों के अलावा किसी को दाढ़ी रखने की इजाजत नहीं होगी. यही नहीं, सिख धर्म के अलावा सभी पुलिसकर्मियों को अपनी दाढ़ी क्लीन शेव रखनी होगी. साथ ही कहा गया है कि धार्मिक आधार पर अस्थायी तौर पर बाल या फिर दाढ़ी रखने के लिए पुलिसकर्मियों को अपने अधिकारी से इजाजत लेनी होगी. इसे योगी सरकार का बड़ा फैसला माना जा रहा है

बटन से लेकर जूतों के रंग…
आपको बता दें कि नवरात्रि, सावन, बच्चे के मूल में जन्म, परिवार में किसी की मृत्यु के बाद हिंदू धर्म में बाल या फिर दाढ़ी कटवाने पर रोक रहती है. ऐसी परिस्थिति में पुलिसकर्मी अपने विभाग के प्रमुख से इजाजत लेकर बाल और दाढ़ी रख सकता है. इसके साथ ही वर्दी पहनते समय शर्ट के बटन से लेकर जूतों के रंग को लेकर भी निर्देश जारी किए गए हैं. स्पोर्ट्स शू, सैंडल या फिर चप्पल पहनने पर भी सख़्त रोक के निर्देश दिए हैं. साथ ही डीजीपी एचसी अवस्थी ने अधिकारियों को निर्देश दिए हैं कि गलत वर्दी पहनने वालों को जरूर टोका जाए

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *