मुसलामानों पर आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत के बयान पर सियासी जंग छिड़ी है. इस बीच उत्तर प्रदेश सेंट्रल शिया वक्फ बोर्ड के अध्यक्ष वसीम रिजवी ने कट्टरपंथी मुसलमानों पर निशाना साधा है. उन्होंने कहा कि हिंदुस्तान मुसलमानों के लिए जन्नत की तरह हैं, अगर विदेशी कट्टरपंथियों की वजह से ये उसे जहन्नुम बनाना चाहते हैं तो ये उनकी मर्जी है. मिसाल के तौर पर कश्मीर जो हिंदुस्तान की जन्नत है, उसे कट्टरपंथी मुसलमानों ने जहन्नुम बना दिया है.

आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत ने का बयान
दरअसल, मोहन भागवत ने कहा है कि दुनियाभर में सबसे ज्यादा भारत के मुसलमान संतुष्ट हैं. उन्होंने कहा कि जब भारतीयता की बात आती है तो सभी धर्मों के लोग साथ खड़े हो जाते हैं और केवल वे ही लोग अलगाव पैदा करते हैं जो कि स्वार्थी हैं और खुद के हित के लिए जीते हैं. भागवत ने कहा कि अकबर के खिलाफ महाराणा प्रताप के युद्ध के दौरान भी उनकी सेना में बड़ी संख्या में मुस्लिम सैनिक थे.

ओवैसी ने भागवत पर हमला बोला
वहीं, AIMIM चीफ असदुद्दीन ओवैसी ने भागवत पर हमला बोल दिया. उन्होंने कहा, हमारी खुशी के मानक क्या हैं? क्या अब भागवत नाम के शख्स बताएंगे कि हमें बहुसंख्यकों का कितना आभारी होना चाहिए. हमारी खुशी इसी में है कि संविधान के तहत हमारा आत्मसम्मान बना रहे.

हमें न बताइए कि हम कितना खुश हैं जबकि आपकी विचारधारा चाहती है.  ओवैसी ने कहा, ‘मैं यह नहीं सुनना चाहता कि कोई कहे, हमारी भूमि पर रहने के लिए ही हमें बहुसंख्यकों का अहसान लेना होगा. हम बहुसंख्यकों की साख के लिए काम नहीं कर रहे. हम दुनियाभर के मुस्लिमों से कंपटीशन भी नहीं कर रहे हैं. हम केवल अपने मौलिक अधिकार मांगते हैं.

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *