11 साल तक कमरे में कैद कर किया दुष्कर्म’…यह आरोप है एक लड़की का जिसका कहना है कि एक साधु ने उसे बरसों पहले किडनैप कर लिया था और फिर उसे तरह-तरह की यातनाएं दी गईं। मामला हरियाणा के यमुनानगर का है। पीड़ित लड़की 11 साल बाद किसी तरह साधु के चंगुल से छूट कर भागी है और लड़की ने जो दास्तान सुनाई है उसे सुनकर आप भी हैरान रह जाएंगे। पीड़ित लड़की ने बताया है कि यशपाल नाम का एक साधु 11 साल पहले उसे बाजार से उठा ले गया था। लड़की के मुताबिक साधु ने उसे एक कार में बैठाया था और फिर यूपी के बेहट की तरफ ले गया था।

हाल ही में यह लड़की जब किसी तरह लौट कर अपने घऱ पहुंची तब उसके परिजन उसे देख कर हैरान रह गए। बताया जाता है कि 24 अगस्त 2009 को उसके परिजनों ने अपनी 17 साल की बेटी के लापता होने की एक रिपोर्ट थाने में दर्ज कराई थी। गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज होने के बाद पुलिस ने लड़की को खोजने की काफी कोशिश की थी लेकिन लड़की का कुछ भी पता नहीं चल सका था। अचानक बरसों बाद घर पहुंची लड़की को देखकर उसके परिजनों के होश उड़ गए और जब लड़की ने अपनी आपबीती बताई तो वो अपनी बेटी को लेकर सीधे थाने पहुंच गए।

थाने में पुलिस के सामने युवती ने जो राज़ उगले उसे सुनकर पुलिसवाले चौंक गए। लड़की के मुताबिक यशपाल नाम के एक साधु ने साल 2009 में उसका उस वक्त अपहरण किया था जब वो बाजार गई थी। लड़की ने बताया कि उसे एक कमरे में कैद किया गया था। लड़की का आरोप है कि यशपाल उसे नशे की दवा दिया करता था। बेहोशी की हालत में यशपाल ने कई बार उससे दुष्कर्म किया। लड़की ने 2 बच्चों को भी जन्म दिया है। लड़की के मुताबिक यशपाल ने उसे धमकी दी थी कि अगर उसने भागने की कोशिश की तो वो उसे जान से मार देगा।

लड़की के मुताबिक करीब एक महीने पहले यशपाल बाबा उसे एक मंदिर लेकर गया था और वो मंदिर के पास ही बने एक कमरे में रहता था। लड़की ने पुलिस को बताया कि यहां भी उसने कई बार उसके साथ दुष्कर्म किया। आरोप है कि इस दौरान उस गांव के सरपंच ने भी लड़की से छेड़खानी की थी।

यशपाल के चंगुल से निकलने के बाद लड़की ने साधु की पूरी करतूत पुलिस के सामने बयां कर दी है। पुलिस ने शिकायत के आधार पर यशपाल बाबा और सरपंच रमेश कुमार के खिलाफ दुष्कर्म, छेड़छाड़, अपहरण व जान से मारने की धमकी देने का केस दर्ज किया है। बहरहाल अब पुलिस इस मामले की गहनता से छानबीन कर रही है और आरोपियों को पकड़ने की कोशिश में जुटी हुई है।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *