शनिवार की रात UFC 254 के दूसरे दौर में जस्टिन गेथजे को हराने के साथ ही नाबाद लाइटवेट चैंपियन खाबीब नर्ममागोमेडोने ने मार्शल आर्ट से संन्यास की घोषणा की घोषणा कर दी।

जुलाई में अपने पिता और आजीवन कोच की मौत के बाद अपनी पहली लड़ाई को प्रभावशाली ढंग से समाप्त करने के तुरंत बाद, नूरमागोमेदोव (29-0) ने संन्यास को लेकर ऐलान किया।

अब्दुलमनप नुरमगोमेदोव को कोविड -19 और दिल की समस्या थी, और उनके बेटे ने अपने तीसरे एमएफसी टाइटल डिफेंस के दूसरे दौर में गैथजे को बेहोश करके 1:34 पर चित कर दिया।उन्होने कहा, “यह मेरी आखिरी लड़ाई है,” नूरमागोमेदोव ने कहा “मैं अपने पिता के बिना वापस जाने वाला नहीं हूँ। मैंने अपनी मां से बात की। वह नहीं जानती कि मैं बिना पिता के कैसे लड़ता हूँ, लेकिन मैंने वादा किया था कि यह मेरी आखिरी लड़ाई होगी और अगर मैं बोलता हूँ, तो मुझे इसका पालन करना होगा। ”

बता दें कि मिक्स मार्शल आर्ट की दुनिया के सबसे बड़े नाम कॉनर मैकग्रेगर को इस्लाम पर विवादित टिप्पणी को लेकर रूस के मार्शल आर्ट चैंपियन ख़बीब नूर मुहम्मदोफ़ ने रिंग के बाहर जमकर पीटा था। जिसके बाद उन्होने साफ कहा था कि उन्हे अपने किये पर कोई पछतावा नही है। चाहे उन पर प्रतिबंध ही क्यों नही लगा दिया जाये।
तुर्की के पीएन स्पोर्ट्स को साक्षात्कार देते हुए उन्होने कहा कि मैं गुनहगार नहीं हूं। मैंने अपने धर्म और अपने परिवार का बचाव किया। मैं इस मामले की सुनवाई के लिए होने वाली कार्यवाही में शामिल नहीं होऊंगा । उन्हे जो कुछ करना है कर लें यदि वह मेरी फ़ीस काटना चाहते हैं तो काट लें। यदि वह चाहें तो दस साल तक मुझे मुक़ाबलों से दूर कर दें। मगर मैं पूरी तरह संतुष्ट हूं मैंने अपने धर्म और परिवार की रक्षा की।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *