लखनऊ। लॉकडाउन के बीच गैर प्रदेशों से पलायन कर उत्तर प्रदेश वापस लौट रहे प्रवासी श्रमिकों के लिए बस मुहैया कराने को लेकर उत्तर प्रदेश में राजनीति गरमा गई है। इस मामले को लेकर कांग्रेस और उत्तर प्रदेश की योगी सरकार के बीच सियासी खींचतान जारी है।

वहीं, बुधवार को आगरा कोर्ट से जमानत मिलने के बाद प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू को लखनऊ से पहुंचीं पुलिस ने फिर गिरफ्तार कर लिया। उसके बाद उन्हें मजिस्ट्रेट के सामने पेश किया गया जहां से उन्हें 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया।

बता दें, यूपी प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू और कांग्रेस की महासचिव प्रियंका गांधी के निजी सचिव संदीप सिंह के खिलाफ मंगलवार को हजरतगंज थाने में मुकदमा दर्ज किया गया था। दरअसल, कांग्रेस की तरफ से प्रदेश सरकार को मुहैया कराई गई बसों की सूची में ऑटो, एंबंलेंस व ट्रक जैसे वाहनों को देने के मामले में यह मुकदमा दर्ज किया गया था।

पुलिस आयुक्त सुजीत पांडेय के मुताबिक, कांग्रेस की तरफ से प्रदेश सरकार को 1079 बसों की सूची उपलब्ध कराई गई थी। जिसकी जांच संभागीय परिवहन अधिकारी, लखनऊ से कराई गई थी। सूची में 879 बसें निकलीं।

31 ऑटो और थ्री-व्हीलर और 69 एम्बुलेंस, स्कूल बस, डीसीएम, मैजिक और अन्य वाहन मिले। इतना ही नहीं एक ही नंबर का वाहन दो अलग-अलग सूचियों में दर्ज मिले। यह रिपोर्ट लखनऊ के आरटीओ आरपी द्विवेदी और अपर पुलिस उपायुक्त, यातायात लखनऊ के दस्तखत से जारी की गई। इस मामले में संदीप सिंह और लल्लू के खिलाफ धोखाधड़ी, दस्तावेज में कूट रचना करने का मुकदमा मंगलवार को दर्ज किया गया था।

बुधवार सुबह अजय कुमार लल्लू आगरा में कांग्रेस की बसों को प्रदेश की सीमा के अंदर प्रवेश कराने के लिए गए थे। वहां पुलिस से कहासुनी के बाद गिरफ्तार कर लिया गया। देर शाम को उनको 20-20 हजार के दो निजी मुचलकों पर रिहा किया गया।

उनके गिरफ्तार किए जाने की जानकारी मिलने पर हजरतगंज पुलिस की टीम आगरा रवाना की गई। वहां शाम को पुलिस टीम ने अजय कुमार लल्लू को हजरतगंज में दर्ज मुकदमें में गिरफ्तार किया। इसके बाद सड़क मार्ग से लेकर महानगर स्थित भाऊराव देवरस अस्पताल गई।

जहां उनका चिकित्सकीय परीक्षण कराया गया। इसके बाद अजय कुमार लल्लू को एसीजेएम के सामने उनके आवास रिवर बैंक कालोनी में पेश किया गया। जहां से 14 दिन की रिमांड पर जेल भेज दिया गया

ReportLook Desk

Reportlook Media Network

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *