उत्तर प्रदेश के वाराणसी में BJP के पूर्व विधायक माया शंकर पाठक की पिटाई कर दी है। आरोप है कि उन्होंने अपने ही कॉलेज में पढ़ने वाली एक छात्रा से छेड़खानी की थी। हालांकि, पिटाई और गंभीर आरोपों के बाद उन्होंने अपनी सफाई जारी है। दावा किया है कि ये सब चीजें राजनीति से प्रेरित हैं।

दरअसल, छात्रा को छेड़ने के आरोप पर नौ जनवरी, 2021 को शहर के चौबेपुर इलाके में कुछ लोगों के समूह ने उनकी पिटाई कर दी थी। कथित छेड़खानी के आरोप में पहले उन्हें दफ्तर के भीतर पीटा गया, जबकि बाद में भी बेइज्जत कर मारपीट की।

दफ्तर के अंदर की वायरल क्लिप के अनुसार, लोगों के समूह ने दफ्तर में कुर्सी के पास जा पाठक को घेर लिया था। उन्हीं में से एक शख्स ने बोला, “जब हमारी इज्जत नहीं रही, तब आपकी कैसे रहेगी। मैं आपकी इज्जत करता हूं। आप ब्राह्मण हैं, पर आपने हमको नर्क में झोंक दिया। लड़की पढ़ने आती है, मेरी बिटिया है।”

इसी बीच, समूह में पीछे खड़े एक अन्य युवक ने पाठक के सिर पर तमाचा जड़ दिया। हालांकि, अन्य लोगों ने उसे दोबारा मारने से रोका, पर इस दौरान पाठक पर वे लोग जुबानी तौर पर चढ़ने लगे। वायरल वीडियो के मुताबिक, पीछे से कुछ लोग उन्हें गंदी-गंदी गालियां देने लगे। आपत्तिजनक शब्दों का विरोध जताते हुए वह कुर्सी से खड़े हुए तो उन लोगों ने फिर धक्का-मुक्की की और गिरेबान पकड़कर सीट पर बैठा दिया।

घटना से जुड़ा यह वीडियो सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रहा है। हालांकि, इस मामले में पुलिस के पास किसी पक्ष की ओर से शिकायत नहीं दी गई है। वहीं, पुलिस वायरल वीडियो की जांच कर रही है। पाठक, चिरई गांव सीट से विधायक रह चुके हैं। मौजूदा समय में वह एक कॉलेज के प्रबंधक है। उन्होंने इस बारे में रविवार को समाचार एजेंसी ANI से बात की।

उन्होंने बताया, “आठ दिन पहले छात्रा मेरे पास आई थी। यह बताने कि वह 26 जनवरी की स्पीच की तैयारियां कर रही है। मैंने उसे फटकार कर भगा दिया था और कहा था कि वह ऐसा नहीं कर सकती है। बस इसी बात के लिए कुछ सियासी और जातिगत लोगों मेरी पिटाई कर दी। यह चीज राजनीति से प्रेरित है।”

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *