उत्तर प्रदेश में हमीरपुर के मौदहा क्षेत्र में एक साधु के सशरीर मिट्टी में समाधिस्थ होने की सूचना पर भीड़ जुट गई। साधु को गहरे गड्ढे में दाखिल होने की कोशिश करते समय भीड़ ने रोक लिया। मौके पर पहुंची पुलिस साधु को कोतवाली ले आई, जहां साधु के समाधि की कोशिश से इनकार करने पर उन्हें जाने दिया गया।

मामला परछछ गांव के पास स्थित मां विध्यावासिनी मंदिर का है। ग्रामीणों के मुताबिक राजस्थान के धौलपुर-कोटरा में जूनागढ़ अखाड़े के नगा स्वामी महाराज गोविंद गिरि का आश्रम है।

उनके शिष्य श्यामगिरि महाराज इस मंदिर के पास कुटी बनाकर रहते हैं। कुछ दिनों पहले उन्होंने भोलेनाथ का मंदिर व प्रतिमा स्थापित कराई थी।

अपने गुरु गोविंद महाराज को भी बुलाया था। उस आयोजन के दौरान जमीन में गहरी खुदाई कर समाधि लेने का इरादा बताया था। सोमवार को खुदाई के बाद उनके समाधि लेने की कोशिश की चर्चा पर लोग एकत्र हो गए। लोगों ने व उनके शिष्यों ने समाधि की कोशिश से रोक लिया।

इस बीच पहुंची पुलिस उन्हें कोतवाली ले आई। वहां उन्होंने समाधि लेने की योजना से इन्कार कर दिया। प्रधान रामकरण सिंह सहित अन्य लोगों ने बताया कि इसके बाद बाबा ने समाधि नहीं ली लेकिन पूरे दिन मामला चर्चा में रहा।

ReportLook Desk

Reportlook Media Network

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *