वाशिंगटन। चीन से नफरत करने वाले अमरीकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप (Donald Trump) विवादों में घिर सकते हैं। दरअसल न्यूयॉर्क टाइम्स की एक रिपोर्ट के मुताबिक ट्रंप ने टैक्स डिक्लियरेशन में माना है कि उनका एक चीनी बैंक में खाता है और वे वहां इसके लिए टैक्स भी चुकाते रहे हैं। गौरतलब है अमरीका में तीन नवंबर को अमरीकी राष्ट्रपति चुनाव होगा।

ट्रंप बीते कई महीनों से चीन से व्यापारिक रिश्ते खत्म करने और उसे कोरोना महामारी फैलाने दोषी ठहराते रहे हैं। इसके लिए वे सजा देने जैसे दावे भी करते रहे हैं,ऐसे में ये खुलासा उनके लिए चुनावों से ठीक पहले भारी पड़ सकता है।

2013 से 2015 के बीच टैक्स भी दिया

इस बैंक खाते को ट्रंप इंटरनेशनल होटल्स मैनेजमेंट नियंत्रित करता है। इसके जरिए चीन की सरकार को वर्ष 2013 से 2015 के बीच टैक्स भी दिया गया है। इस मामले में डोनाल्ड ट्रंप के प्रवक्ता ने सफाई दी है कि कि वे राष्ट्रपति होने के साथ एक बिजनेसमैन भी हैं और एशिया में होटल इंडस्ट्री जुड़े खर्चो और लेनदेन के लिए बैंक खाता खोला था। ट्रंप के चीनी बैंक खाते से स्थानीय करों में 1,88,561 अमरीकी डॉलर करीब (1.38 करोड़ रुपए) का भुगतान हुआ है।

अपनी चुनावी रैलियों में ट्रंप लगातार उन अमरीकी कंपनियों की आलोचना करते रहे हैं, जो कि चीन के साथ व्यवसाय कर रही हैं। कोरोना महामारी के बाद से वे चीन पर इस बीमारी को पफके बाद तो उन्होंने चीन के खिलाफ व्यापारिक युद्ध ही छेड़ा हुआ है। इस खुलासे के बाद अब ट्रंप पर विपक्ष हावी हो सकता है।

पांच छोटी कंपनियां बनाई हैं

टैक्स रिकॉर्ड में पता चला है कि ट्रंप ने बीते कुछ वर्ष में चीन में अपनी परियोजनाओं को आगे बढ़ाने के लिए पांच छोटी कंपनियां बनाई हैं। इसमें कम से कम 1,92,000 अमरीकी डॉलर का निवेश किया है। रिपोर्ट के अनुसार चीन में ट्रंप की योजनाओं को मोटे तौर पर ट्रंप इंटरनेशनल होटल्स मैनेजमेंट चला रहा है। रिपोर्ट में दावा किया है कि डोनाल्ड ट्रंप के चीन के अलावा, ब्रिटेन और आयरलैंड के बैंकों में भी खाते मौजूद हैं।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *